top of page
Search
  • Writer's pictureGaurav Chaubey

Laut jane do

Ghar se nikla tha zindagi k liye,

Chhod kar apno ko rozi roti k liye,

Sangharsh ki is utha pahak me..

Chand khusiyan dhundne k liye,

Safar mukamal ho na ho.. lad raha hu..

apno ki sahulutiyon k liye,

Thak kar ruk jata hai jism apna..

Mann fir tassali deta hai ladne k liye,

Yun kab talak jiyu me.. zindgi dusron k hisse ki..

meri ruh bhi tadap uthi khud ki jaruraton k liye,

Kal jiske kaam ka tha aaj vo mujhe jaanta bhi nhi..

Laut raha hun mai apne sehar ko..

ab aapka ye sehar mujhe pehchanta bhi nahi..

Do june ki roti bhi nasheeb me nhi mere bucchon ko yaha..

Laut jane do unhe apne ghar aur unki zindagi k liye,

Majdoor bhi hun majboor bhi hun..

To paidal hi nikal pada hun ghar ko..

dil me dard ankhon me anshu liye.



- Gaurav Chaubey

22 views0 comments

Recent Posts

See All

वजूद

सुखे पत्तों सी हो गई है जिंदगी, किसी ने किताबों में सजा लिया, किसी का प्रेम पत्र बन गया हूं मैं, तो कोई जला कर खुश है मुझे, रंज नहीं जो जुदा हूं अपनी साख से, खुश हूं चाहने वालों का वजूद बन गया हूं मैं

मुस्कुरा तुम देती हो

यूं रंग भर के खुशियों का, मुस्कुरा तुम देती हो, सुकून दे कर मेरी सुबहों को, रातें चुरा लेती हो, परेशां है दिल मेरा, जब यूं नजरों से नजर मिला लेती हो, मुश्किल है मेरा तुझसे लिपट कर यूं चले जाना, मगर अग

अंतिम उद्द्घोष

विपदा एक ऐसी आयी जिससे हर मानव त्रसत हुआ, मजहब जो एक हमारा था टुकड़ों में बिखरा एक मुकुर हुआ, त्राहि त्राहि कर गिरती लाशों पे सियासती गिद्धों का गुजर हुआ, ना दवा मिली ना दुआ मिली मरघट पर भी परिमोष हुआ,

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page