top of page
Search
  • Writer's pictureGaurav Chaubey

Tere Saath Hun

E rahi me Tere chehre pe bikhri muskan sa hun,

Mai to thahra hua hu.. Tu bhi thahar ja,

Jo tu chala to me bhi chalunga,

Tu pyaar kr tu intezaar kar,

Mai har pal tere saath hun,

Tu iqrar kar tu izhar kar,

Mai har lamha tere pass hun,

Dukh ki barish me mai khushiyo ki chatri sa tere saath hun,

Mai teri parchai to nhi,

Bus Tere badan ki khusbu sa tere saath hun,

Tu zi har lmha apni zindgi ka,

Mai teri manzil tak tere saath hun,

Bus tu mujhse bhtakna nhi,

Mai har halat me tere saath hu


- Gaurav Chaubey

17 views0 comments

Recent Posts

See All

वजूद

सुखे पत्तों सी हो गई है जिंदगी, किसी ने किताबों में सजा लिया, किसी का प्रेम पत्र बन गया हूं मैं, तो कोई जला कर खुश है मुझे, रंज नहीं जो जुदा हूं अपनी साख से, खुश हूं चाहने वालों का वजूद बन गया हूं मैं

मुस्कुरा तुम देती हो

यूं रंग भर के खुशियों का, मुस्कुरा तुम देती हो, सुकून दे कर मेरी सुबहों को, रातें चुरा लेती हो, परेशां है दिल मेरा, जब यूं नजरों से नजर मिला लेती हो, मुश्किल है मेरा तुझसे लिपट कर यूं चले जाना, मगर अग

अंतिम उद्द्घोष

विपदा एक ऐसी आयी जिससे हर मानव त्रसत हुआ, मजहब जो एक हमारा था टुकड़ों में बिखरा एक मुकुर हुआ, त्राहि त्राहि कर गिरती लाशों पे सियासती गिद्धों का गुजर हुआ, ना दवा मिली ना दुआ मिली मरघट पर भी परिमोष हुआ,

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page