top of page
Search
  • Writer's pictureGaurav Chaubey

वजूद

सुखे पत्तों सी हो गई है जिंदगी,

किसी ने किताबों में सजा लिया,

किसी का प्रेम पत्र बन गया हूं मैं,

तो कोई जला कर खुश है मुझे,

रंज नहीं जो जुदा हूं अपनी साख से,

खुश हूं चाहने वालों का वजूद बन गया हूं मैं


- गौरव चौबे

29 views0 comments

Recent Posts

See All

मुस्कुरा तुम देती हो

यूं रंग भर के खुशियों का, मुस्कुरा तुम देती हो, सुकून दे कर मेरी सुबहों को, रातें चुरा लेती हो, परेशां है दिल मेरा, जब यूं नजरों से नजर मिला लेती हो, मुश्किल है मेरा तुझसे लिपट कर यूं चले जाना, मगर अग

अंतिम उद्द्घोष

विपदा एक ऐसी आयी जिससे हर मानव त्रसत हुआ, मजहब जो एक हमारा था टुकड़ों में बिखरा एक मुकुर हुआ, त्राहि त्राहि कर गिरती लाशों पे सियासती गिद्धों का गुजर हुआ, ना दवा मिली ना दुआ मिली मरघट पर भी परिमोष हुआ,

Laut jane do

Ghar se nikla tha zindagi k liye, Chhod kar apno ko rozi roti k liye, Sangharsh ki is utha pahak me.. Chand khusiyan dhundne k liye, Safar mukamal ho na ho.. lad raha hu.. apno ki sahulutiyon k liye,

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page